Inspiring Stories Of Everyday Heroes

Nurses form the backbone of AMRIT clinics. They play a vital role in the functioning of the clinics by providing clinical care and outreach care to the remote, rural, and underserved populations. They also provide safe childbirth services and manage emergencies by staying within the community for 24X7. On the …

Musings of a young doctor

Chapter 1 : Am I heading towards the right direction ? Thank God! Finally that day has arrived, it’s degree completion day. After a lot of struggle and efforts, I have earned the MBBS degree, and I am  officially a doctor. I enjoyed this sense of achievement for a few days by …

Re-imagining designs of primary healthcare for the future

Primary health care is rooted in a commitment to social justice and equity and in the recognition of the fundamental right to the highest attainable standard of health -World Health Organisation October 2018 marked 40 years of the Alma Ata Declaration that brought together global leaders, public health practitioners towards …

जिन्दगी मिल गई है दुबारा

यह कहानी है आदिवासी परिवार में जन्में श्री गौतम मीणा* की जो सलूम्बर क्षेत्र कि झल्लारा पंचायत समिति के बोरी गाँव के रहने वाले हैं। इनकी माता की मृत्यु तभी हो गई थी जब वे मात्र 5 वर्ष के थे और पिता का साया भी आज से 2 वर्ष पूर्व …

Swasth Diwas at Amrit: A Photostory

Swasth Diwas is an initiative at Amrit Clinic to create a peer group of persons suffering from Tuberculosis and their families. This group congregates once a month. They learn about the disease itself, the importance of compliance to the drug regime, and nutrition; they bust myths, and meet survivors. Pranoti …

जुडवाँ बच्चे-दोहरी खुशियाँ

जुडवाँ बच्चे-दोहरी खुशियाँ नवली बाई मानपुर पंचायत के हण्ड़ी फला गांव की रहने वाली एक खेतीहर आदिवासी महिला श्रमिक है। इनकी उम्र 40 वर्ष है। लाली बाई के पति रामलाल प्रवासी श्रमिक है जो कि अहमदाबाद में मार्बल फर्श घिसाई का कार्य करते है। रामलाल जी लम्बे समय तक प्रवास …

पोषण कार्यक्रम से बदला दूर-दराज के आदिवासी क्षेत्रों में खान-पान का स्वरूप

पोषण कार्यक्रम से बदला दूर-दराज आदिवासी इलाकों में खान-पान का स्वरूप “एक माह मेँ केवल दो बार हरी सब्जी का उपयोग होता जब माँ बाजार जाती तो हरी सब्जी नसीब होती लेकिन किचन गार्डन लगाने के बाद सप्ताह मेँ चार दिन हरी सब्जी खाते है और पड़ौसियों को भी दी …